बुधवार, 4 नवंबर 2009

झरना ..

water fall

Backgound is emboidered & painted...startched silk leaves strewn across the foot of the water fall..water faal is a silk plait combed to get an effect of a water fall॥unfortunately the pic lacks clarity!
तसवीर धुंदली निकली है...झरना सिल्क की चोटी को कंघीसे खुला किया ...तो झरने का एहसास हुआ..पहाडी परसे गिरता झरना...पत्ते जब पत झड़ मे गिरते है,तो ऐसे ही दिख पड़ते हैं ...सिल्क के छोटे पत्ते काटके लगाये हैं...काफ़ी कुछ कढाई ज़रिये बनाया है..

7 टिप्‍पणियां:

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

वाह दी....लगता ही नहीं कि सिल्क से झरना बना है...एक्दम पेन्टंग की तरह लग रहा है. और पत्ते भी असली की तरह. बहुत सुन्दर.

प्रदीप कांत ने कहा…

बहुत सुन्दर

विनोद कुमार पांडेय ने कहा…

ऐसे प्राकृतिक वस्तुओं की बात ही अलग होगी है..बहुत सुंदर प्रस्तुति..आभार

अबयज़ ख़ान ने कहा…

शमा जी बेहतरीन पिक्चर... अच्छा डिज़ाइन बना है..

अमिताभ श्रीवास्तव ने कहा…

are waaaaaaaaah,
aap to masha allah bemisaal kalaakaar he..yah chhavi dekhane se me ab tak vnchit thaa..jab aapke blogs khangaal rahaa hu to sach maaniye..gazab ki anubhuti ho rahi he..fir ye chitrakaari to manmohak he ji, me khud chitrakaari kartaa hu to kuchh jyaadaa anand aayaa dekhane me..

निर्झर'नीर ने कहा…

har tasviir bejod manohaari..bahut din baad aapke blog pe aana hua ..man khush ho gaya .
kya ye sab aapne hi banaye hai? agar haan to aapka ghar to kisi sanghralay se kam nahi hogaa

ज्योति सिंह ने कहा…

aapki kalakriti se nazar hi nahi hatti ,apne shauk ko panpate dekhti hoon to sukoon ka ahsaas hota hai ,kaise bataye hum samjh na paaye ,umda